Last modified on 22 जून 2017, at 09:59

मरता नहीं है कोई किसी के लिए मगर / शिवशंकर मिश्र

Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:59, 22 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शिवशंकर मिश्र |अनुवादक= |संग्रह= }} {...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

मरता नहीं है कोई किसी के लिए मगर
जी पाया भी कभी न अकेला कोई बशर
यों ही बने ये घर न तो यों ही बना समाज
यों ही बसे न गाँव, न यों ही बसे शहर