भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुसाफ़िर / अब्बास कियारोस्तमी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:45, 10 अक्टूबर 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अब्बास कियारोस्तमी |अनुवादक=असद...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 एक
थका मुसाफ़िर

रास्ते में
अकेला

अपनी मंज़िल से
एक फ़रसंग[1] दूर

(मूल फ़ारसी से अनुवाद - असद ज़ैदी)

शब्दार्थ
  1. क़रीब दो कोस या साढ़े छह किलोमीटर