भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मुसाफ़िर / अब्बास कियारोस्तमी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 एक
थका मुसाफ़िर

रास्ते में
अकेला

अपनी मंज़िल से
एक फ़रसंग[1] दूर

(मूल फ़ारसी से अनुवाद - असद ज़ैदी)

शब्दार्थ
  1. क़रीब दो कोस या साढ़े छह किलोमीटर