भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

यह आवाज़ कभी सुनी क्या तुमने / अलेक्सान्दर पूश्किन

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:26, 31 जुलाई 2015 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: अलेक्सान्दर पूश्किन  » यह आवाज़ कभी सुनी क्या तुमने
यह आवाज़ कभी सुनी क्या तुमने

General Book.png
क्या आपके पास इस पुस्तक के कवर की तस्वीर है?
कृपया कविता कोश टीम को भेजें

रचनाकार: अलेक्सान्दर पूश्किन
अनुवादक: अनिल जनविजय
प्रकाशक: शिल्पायन प्रकाशन,10295, लेन नम्बर-1, वैस्ट गोरखपार्क, शाहदरा, दिल्ली-110032
वर्ष: 2008
मूल भाषा: रूसी
विषय: --
शैली: --
पृष्ठ संख्या: 92
ISBN: 81-87302-77-1
विविध: मूल रूसी भाषा से अनूदित

इस पन्ने पर दी गयी रचनाओं को विश्व भर के योगदानकर्ताओं ने भिन्न-भिन्न स्रोतों का प्रयोग कर कविता कोश में संकलित किया है। ऊपर दी गयी प्रकाशक संबंधी जानकारी प्रिंटेड पुस्तक खरीदने में आपकी सहायता के लिये दी गयी है।