भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वक़्त तलाशी लेगा / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:54, 25 दिसम्बर 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

       वक़्त तलाशी लेगा
       वह भी चढ़े बुढ़ापे में
       सँभल कर चल ।

कोई भी सामान न रखना
जाना-पहचाना
किसी शत्रु का, किसी मित्र का
ढंग न अपनाना

       अपनी छोटी-सी ज़मीन पर
       अपनी उगा फसल
       सँभल कर चल ।

ख्वारी हो सफ़ेद बालों की
ऐसा मत करना
ज़हर जवानी में पी कर ही
जीती है रचना

         जितना है उतना ही रख
         गीतों में गंगाजल
         वे जो आएंगे
         छानेंगे कपड़े बदल-बदल
         सँभल कर चल ।