भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सपने / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:40, 15 फ़रवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश तैलंग |अनुवादक= |संग्रह=मेरे...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झूठे-सच्चे कैसे भी हों
हमें लुभाते सपने।
बंद रहे खिड़की आँखों की
पर आ जाते सपने।

पंख लगाकर आसमान पर
हमें उड़ाते सपने।
और किसी अनजानी दुनिया
में ले जाते सपने।

छोटी-छोटी बातों पर हैं
हमें हँसाते सपने।
डर के मारे कभी अचानक
नींद उड़ाते सपने।

खुल जाएँ आँखें तो
छूमंतर हो जाते सपने।
कितनी काशिश कर लो
फिर भी हाथ न आते सपने।