भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सेमल / रंजना जायसवाल

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:41, 26 जून 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रंजना जायसवाल }} {{KKCatKavita}} <poem> पत्ते पु...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पत्ते पुत्र हैं कलियाँ बेटियाँ जानता है सेमल
बेटे रहेंगे देर तक साथ
बेटियाँ विदा हो जाएँगी
फूल बनते ही फिर भी भेद नहीं बरतता है
तब भी नहीं जब
कलियों के युवा होते ही
दूर-दूर से आने लगती है
रसिकों की टोली जानता है
जब तक बेटियाँ हैं घर जगमग है
जाते-जाते भी दे जायेंगी वे फल
जिसमें सृजित होगी श्वेत...कोमल ऊष्मा
जिसे जानेगा संसार उसके ही नाम से