भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सोनवाँ लुटावे दिनमान / रामवचन शास्त्री अंजोर

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:42, 13 सितम्बर 2013 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अतिराली भुइयाँ, झूमेला असमान,
भोरे-भोरे हो, सोनवाँ लुटावे दिनमान।।
बड़ नीक लागे हऊ ललकी किरिनियाँ,
छउकि-छउकि भरमावेले हरिनियाँ।
कुहुकि कोंइलि कुहुकावेले परान,
भोरे-भोरे हो, सोनवाँ......।।

नाधे अनवादि ई वसंत बयरिया,
बहियाँ उठाइ देहिं तोरे बँसवरिया।
मारे सरसोइया करेजवे में बान,
भोरे-भोरे हो, सोनवाँ...।।

कजरारी तिसिया नयन अझुरावे,
मेंहदी के गंध मनवाँ के बउरावे।
पीके मधु मस्त गावे भँवरा अमान,
भोरे-भोरे हो, सोनवाँ...।।

सेमरऽ पलास लाल बन्हले पगरिया,
मन चिहुँकाइ देति आम के मोजरिया,
महुआ टपकि तान दिहलस कमान,
भोरे-भोरे हो, सोनवाँ...।।

लटके अनार लागे सगुनी सिन्होरा,
कतरेला सुगना लुकाइके टिकोरा।
अमरऽ गुलाब के गजब मुस्कान,
भोरे-भोरे हो, सोनवाँ...।।

बहियाँ लफाइ गेहूँ-बलिया बटोर के,
चूमे जनमतुआ मतिन पोरे-पोर के।
अरिए प किसना के सुरहुर मचान,
भोरे-भोरे हो, सोनवाँ...।।