भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

विष्णु-विनय 1 / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:56, 21 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अगम अगोचर अलख अविनाशी प्रभु, अजर अमर अशरणके शरण हो।
अभय अनन्त अपतितन के हो पति गति, अचल अनाथ बन्धु अनर करन हो॥
अक्षय अयोनि वो अयाची हो अचिन्त्य रूप, आदि अन्त धरनी के तारन तरन हो।
अचुत अपार अविगति सन्तके अधार, भुवन के भरनहार भंजन भयन हो॥1॥