भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

साधुजन / शब्द प्रकाश / धरनीदास

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 05:30, 21 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धरनीदास |अनुवादक= |संग्रह=शब्द प्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भूमि सो पवित्र होत साधु के प्रसाद पाय, साधु के तो अंग अंग तीरथो तरात है।
साधुके सनेहते हुताश को प्रकाश होत, साधुकी सृदृष्टि पौन-सृष्टिको सोहात है॥
आसमान आश थिर साधु के तमाशगीर, हो रहो मगन ताते नाहि विनशात है।
धरनी कहत सो वुझत कोइ कोइ भाई, साधु जो दृढ़ाई वात सोइ वात वात है॥23॥