भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

घैला तर में झिंगुर बोलै पानी गेल घटोस / सामवे

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:19, 1 जून 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ओमप्रकाश गुप्ता 'सामवे' |अनुवादक= |...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घैला तर में झिंगुर बोलै पानी गेल घटोस
झिंगुर धीरे धीरे बोल
सौ सौ घड़ी रोॅ पापोॅ के आबेॅ खुललोॅ छै पोल
टिगुर धीरे धीरे बोल
जात धरम रोॅ बटखरा सें नैं केकरौ तोहैं तोल
झिंगुर धीरे धीरे बोल
मेहनतकश मजदूरोॅ रोॅ मेहनत के होतै मोल
झिंगुर धीरे धीरे बोल
जुलुम जुलुम छै जोर जुलुम छै इक इक सें ई बोल
झिंगुर धीरे धीरे बोल
रात गेलै दिन ऐलै आबेॅ ढोल बजाजें ढौल
झिंगुर धीरे धीरे बोल
एक्के धरती एक सरंग छै एक प्रेम अनमोल
झिंगुर धीरे धीरे बोल