भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

पाणी / कृष्ण वृहस्पति

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 04:21, 16 अक्टूबर 2013 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हैं तिसायो नीं मरियो हो
जे आ बात
म्हारै बैरियां नै ठाह लागज्या
तो बै मेरी छमाई रो
घड़ियो तांई कोनी भरण देवै।

मेह रै खातर म्हारी लड़ाई
बादळां स्यूं नीं
सीधी इंदर स्यूं ई ही
जे आ बात
कुआं नै सुणज्या तो बै
सौ हाथ ओर उंडा हूज्यावै।

बादळां ने देख‘र
घड़ियां फोड़ण री कैबत
म्हारै तांई नी कथीजी।
म्हे तो पाणी नै
चड़स स्यूं नितारां अर
चळू स्यूं बरतां हा।

पाणी रै खातर लोईरस्सो
म्हारो सुभाव तो नीं है
पण मेह नीं आण रा समचार सुण‘र ई
म्हारै गोडां पाणी नीं पड़ ज्यावै।
आ दुनियां तो फकत पाणी पीवै है
पण म्हारी तो आंख रै मायं
ओ बैरी जीवै है।