भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

वे उनसोँ रति को उमहैँ वे उनसोँ विपरीत को रागैँ / अज्ञात कवि (रीतिकाल)

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:56, 1 नवम्बर 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वे उनसोँ रति को उमहैँ वे उनसोँ विपरीत को रागैँ ।
वे उनको पटपीत धरैँ अरु वे उनही सों निलँबर माँगैँ ।
गोकुल दोऊ भरे रसरँग निसा भरि योँ हिय आनँद पागैँ ।
वे उनको मुख चूमि रहैँ वे उनको मुखि चूमनि लागैँ ।


रीतिकाल के किन्हीं अज्ञात कवि का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल महरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।