भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

155 / हीर / वारिस शाह

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:21, 31 मार्च 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=वारिस शाह |अनुवादक= |संग्रह=हीर / व...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मही छड माही उठ जाए भुखा उहदे खाने दी खबर ना किसे कीती
भता फेर ना किसे ल्यावणा ए एदूं पिछली बाबला हो बीती
मसत होय बेहाल ते महर कमला जिवें किसे अबदाल[1] ने भंग पीती
किते एसनूं झब वयाह देईये एहो महर दे जीऊ दे विच सीती

शब्दार्थ
  1. मलंग, फकीर