भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कहूँ-कहूँ बनीं-ठनीं, लसैं सु बापिका घनी / शृंगार-लतिका / द्विज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाराच
(परिपूर्ण ऋतुराज का प्रकाश रूप से वर्णन)

कहूँ-कहूँ बनीं-ठनीं, लसैं सु बापिका घनी । जहाँ-तहाँ मलिंद-बॄंद-बृंद की प्रभा ठनी ॥
चकोर चारु-चारु चाँदनीन चौंथते चहूँ । कपोत-गोत कौ तहाँ सु सोर होत है कहूँ ॥२५॥