भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मंद दुचंद भए बुध-बैनहिं / शृंगार-लतिका / द्विज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किरीट सवैया
(ऋतुराज की स्तुति-वर्णन)

मंद दुचंद भए बुध-बैनहिं, भाँखि सकैं कबि हूँ कबितान न ।
आइ लजाइ चलेई गए गुरु, आपनौं सौ लिऐं आपनौं आनन ॥
कौंन प्रभा करतार! बखानिहैं, मंगल-खाँनि बिलोकि कै कानन ।
सीस हजार हजार करैं, पैं न पार लहैंगे हजार जुबानन ॥३१॥