भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

देखत हीं बन फूले पलास / शृंगार-लतिका / द्विज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किरीट सवैया
(ऋतुराज के दर्शन से अपनी दशा का वर्णन)

देखत हीं बन फूले पलास, बिलोकत हीं कछु भौंर की भीरन ।
बावरी सी मति मेरी भई, लखि बावरी-कंज-खिले-घटे-नीरन ॥
भाजि गयौ कढ़ि ग्यान हिए तैं, न जानि परयौ कब छोड़ि कैं धीरन ।
अन्ध न कौंन के लोचन हौंइँ, पराग-सने सरसात समीरन ॥३२॥