भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

शरशय्या / दोसर सर्ग / भाग 2 / बुद्धिधारी सिंह 'रमाकर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बीतल वर्ष कतेको सुखमय
आवि तुलाएल व्याधि।
जूड़ब रहितहुँ रुचए नहि
पचब छुटल तें आधि।।6।।

जरा-जीर्ण तन आविके
पाओल केवल ताप।
भोग-रोगवश नरक तन
पवइत अछि अनुताप।।7।।

देखि जगक गति योगिवर
शान्तनु कएल विचार।
देह छोड़ि थिक चलक झट
कर्मक जलांधक पार।।8।।

शान्ति-देविके हुलसिकें
आलिंगन नर-राय।
बदलि रूप् पहिलुक प्रिया,
धएलन्हि हुनकर काय।।9।।