Last modified on 18 जनवरी 2017, at 17:32

गजब कियो है मजदूर सरकार ‘नाथ’ / नाथ कवि

Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:32, 18 जनवरी 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=नाथ कवि |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBrajBhashaRa...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

गजब कियो है मजदूर सरकार ‘नाथ’।
कीनी साफ घोषणा स्वतंत्रता बहाल है॥
सन् सेंतालीस के अगस्त तजें भारत कों।
बात यह साँची या कि चलते ये चाल हैं॥
चर्चिल पुकार कर पूछत है बार बार।
मिस्टर बाबेल कों क्यों दीनो निकाल है॥
जिन्ना और चर्चिल दोऊ हारे राजनीति मांहि।
मोहन आजाद भये भारत के लाल हैं॥