भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वीराने बाग़ बाग़ हैं मेरी निगाह से / नियाज़ हैदर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वीराने बाग़ बाग़ हैं मेरी निगाह से
ज़र्रात शब-ए-चराग़ हैं मेरी निगाह से

मेरी नज़र शुआ जिगर-सोज़-ओ-जाँ-गुदाज़
रौशन दिलों के दाग़ हैं मेरी निगाह से

है किस क़दर हसीन ये तस्वीर-ए-काएनात
ख़ुश-रंग बाग़ ओ राग़ हैं मेरी निगाह से

साक़ी की चश्म-ए-मस्त पे इल्ज़ाम आ न जाए
लबरेज़ सब अयाग़ हैं मेरी निगाह से

वो बे-नियाज-ए-दर्द-ओ-ग़म-ए-ज़िंदगी ‘नियाज़’
वो लोग बा-फ़राग़ हैं मेरी निगाह से