भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साँप सुसील दयाजुत नाहर / मोती राम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साँप सुसील दयाजुत नाहर काक पवित्र औ साँचो जुआरी ।
पावक सीतल पाहन कोमल रैन अमावस की उजियारी ।
कायर धीर सती गनिका मतवारो कहा मत वारो अनारी ।
मोतिय राम बिचारि कहैँ नहिँ देखी सुनी नरनाह की यारी ।


मोती राम का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।