भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सोचेंगे कैसे आग पे पानी को छोड़कर / माधव मधुकर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोचेंगे कैसे आग पे पानी को छोड़कर,
हम देखते हैं चीज़ों को चीज़ों से जोड़कर ।

क्यों ज़िन्दगी का बाग़ न सरसब्ज़ हो सका,
हमने तो दे दिया है लहू तक निचोड़कर ।

कैसा हुआ विकास कि जब आज भी किसान,
तक़ता है आसमान को खेतों को गोड़कर ।

निर्माण किया करते हैं जो रास्ते नए
रख देते हैं वे समय की धारा को मोड़कर ।

भीतर सुलग रहा है जो ज्वालामुखी-सा ज़ब्त,
फूटेगा लावा जल्द ही पत्थर को फोड़कर ।

आँधी के बाद तुम ज़रा बरगद को देखना,
रख देंगी ये हवाएँ कलाई मरोड़कर ।