भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

त्रयोदश प्रकरण / श्लोक 1-6 / मृदुल कीर्ति

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जनक उवाचः
कौपीन धारण पर भी दुर्लभ, जो अवस्था चित्त की,
वह कुछ नहीं के भाव से, अनुभूति होती नित्य की.-----१

देह का दुःख है कहीं तो वाणी मन का दुःख कहीं,
त्याग कर अतएव तीनों आत्मसुख पाया यहीं.------२

देहादि से कृत कर्म उनसे तो आत्मा निर्लिप्त है,
कृत कर्म जो भी आ पड़ा, करके उसे सुख, तृप्त है.-----३

कर्म और निष्कर्म बंधन युक्त भाव के लोग से,
मैं सर्वथा ही असंग, प्रमुदित देह योग वियोग से ------४

निरपेक्ष, निःस्पृह हूँ यथा, गतिस्वप्न, अर्थ अनर्थ से,
अथ जागता सोता तथापि मुदित, निःस्पृह से.------५

सुख अनित्य है, मर्म बहु जन्मों में जाना इसलिए,
अशुभ - शुभ सब त्याग निःस्पृह भाव हूँ प्रमुदित हिये -----६