भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अंदर का सुकूत कह रहा है / शाहिद कबीर

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 06:35, 9 अक्टूबर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शाहिद कबीर }} {{KKCatGhazal}} <poem> अंदर का सुकू...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अंदर का सुकूत कह रहा है
मिट्टी का मकान बह रहा है

शबनम के अमल से गुल था लरज़ाँ
सूरज का इताब सह रहा है

बिस्तर में खुला कि था अकहरा
वो जिस्म जो तह-ब-तह रहा है

पत्थर को निचोड़ने से हासिल
हर चंद नदी में रह रहा है

आईना पिघल चुका है ‘शाहिद’
साकित हूँ मैं अक्स बह रहा है