भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"अज्ञात स्‍पर्श / सुमित्रानंदन पंत" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 4: पंक्ति 4:
 
|संग्रह=कला और बूढ़ा चांद / सुमित्रानंदन पंत
 
|संग्रह=कला और बूढ़ा चांद / सुमित्रानंदन पंत
 
}}
 
}}
 +
{{KKCatKavita}}
 
<poem>
 
<poem>
 
शरद के
 
शरद के
पंक्ति 18: पंक्ति 19:
 
मेरे भीतर
 
मेरे भीतर
 
बरस पड़ता है !
 
बरस पड़ता है !
 +
</poem>

07:03, 13 अक्टूबर 2009 के समय का अवतरण

शरद के
एकांत शुभ्र प्रभात में
हरसिंगार के
सहस्रों झरते फूल
उस आनंद सौन्‍दर्य का
आभास न दे सके

जो

तुम्‍हारे अज्ञात स्‍पर्श से
असंख्‍य स्‍वर्गिक अनुभूतियों में
मेरे भीतर
बरस पड़ता है !