भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अट्टू-बट्टू / चंद्रदत्त 'इंदु'

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 02:26, 4 अक्टूबर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=चंद्रदत्त 'इंदु' |अनुवादक= |संग्रह=...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक था अट्टू, एक था बट्टू
एक था उनका घोड़ा,
अट्टू बैठा, बट्टू बैठा
तड़-तड़ मारा कोडा।
कोड़ा खाकर घोड़ा भागा
सँभल न पाया बट्टू,
गिरा जमीं पर, रोकर बोला-
घोड़ा बड़ा लिखट्टू!