भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

"अनंत जात्रा / कृष्ण वृहस्पति" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कृष्ण वृहस्पति |अनुवादक= |संग्रह= }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 3: पंक्ति 3:
 
|रचनाकार=कृष्ण वृहस्पति
 
|रचनाकार=कृष्ण वृहस्पति
 
|अनुवादक=
 
|अनुवादक=
|संग्रह=
+
|संग्रह=थार-सप्तक-5 / ओम पुरोहित ‘कागद’
 
}}
 
}}
 
{{KKCatKavita}}
 
{{KKCatKavita}}

05:41, 12 जून 2017 के समय का अवतरण

रात
आंवती ई कर देवै
म्हारा दो टुकड़ा।
एक चल्यो जावै
तेरी याद री अनंत जात्रा माथै
अनै
दूजो निभावै
दुनियांदारी रा फरज।

दिनुगै
सूरज री पै'ली किरण
जोड़ देवै म्हनै पाछो
अर
म्हे चाल-व्हीर होऊं
एक दूजी ई
बोझ सूं लद्योड़ी
मुसाफरी माथै।