भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अनुकरण / हरीश करमचंदाणी

Kavita Kosh से
Neeraj Daiya (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 05:19, 25 मई 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: <poem>किसी इतवार को या छुट्टी के दिन बच्चों के बहाने हम खेलेंगे घर-घर …)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी इतवार को
या छुट्टी के दिन
बच्चों के बहाने
हम खेलेंगे घर-घर वाला खेल
शायद इसी तरह
हम सीख जाएँ एक दिन
घर बनाना