भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

अपने दुश्मन हाथ मलते रह गए / हरिराज सिंह 'नूर'

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:43, 17 अक्टूबर 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपने दुश्मन हाथ मलते रह गए।
हम तो ग़म हँसते-हँसाते सह गए।

कर नहीं पाए जो हमसे खुल के बात,
बोलती आँखों से क्या-क्या कह गए।

पार कर आए समुन्दर इश्क़ का,
ग़म के दरिया में मगर वो बह गए।

बस ख़यालों में ही हम खोए रहे,
और हक़ीक़त के महल सब ढह गए।

हम ज़ुबां से कर सके उफ़ तक न ‘नूर’,
हँस के हम उस के सितम सब सह गए।