भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आंधी / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
Dhirendra Asthana (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:52, 5 अप्रैल 2015 का अवतरण ('{{KKRachna |रचनाकार=श्रीनाथ सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBaalKavita...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छप्पर उड़ कर गिरा भूमि पर,
धूल गगन -तल पर जा छाई।
चौखट से लड़ गये किवाड़े,
हर हर करके आँधी आई।
गोफन से बन बाग उठे हिल,
छूटे चमगादड़ ज्यों ढेला।
पट पट आम गिरे गोली से,
हुआ हवा का बेहद रेला।
कंघी करने लगीं झाड़ियाँ,
निकले उनसे खरहे तीतर।
नदियों ने उड़ने की ठानी,
नावें उलटीं उनके भीतर।
टूटे पेड़ रुकीं सब राहें,
और कुओं का झलका पानी।
आँख बंद की सूरज ने भी,
हार हवा से सब ने मानी।
छाई छटा अजीब धरा पर,
घिरी घटा फिर काली काली।
वर्षा ने धो दिया जगत को,
हुई नई उसकी हरियाली।
आँधी से भी जादा ताकत,
बसती है मनुष्य के मन में।
वह चाहे तो कर सकता है,
कुछ का कुछ दुनियाँ को छन में।