भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

आगे क़दम बढ़ाओ तो / गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल'

Kavita Kosh से
Rahul Shivay (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:27, 8 जुलाई 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गोपाल कृष्ण शर्मा 'मृदुल' |अनुवाद...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आगे क़दम बढ़ाओ तो।
खुलकर बाहर आओ तो।।

ख़ुद को ख़ुद पा जाओगे,
ख़ुद से नज़र मिलाओ तो।।

अँधियारा तो फ़ानी है,
कोई दीप जलाओ तो।।

शागिर्दों की कौन कमी,
अपना हुनर दिखाओ तो।।

दुनिया सज़दे में होगी,
दुनिया के हो जाओ तो।।

सातों जनम सुखी होंगे,
सातों वचन निभाओ तो।।