भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

आशा और आत्मवंचना / अनुराग अन्वेषी

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:40, 20 मई 2011 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अनुराग अन्वेषी |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem> ओ बाबू, जब भी …)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ओ बाबू,
जब भी सुनती हूँ
तुम्हारी बाँसुरी पर
अपना नाम
मदमस्त हो जाती हूँ मैं ।
यक़ीन मानो
उस समय मुश्किल नहीं होता
बीच की नदी को
फलाँग कर
तुम्हारे पास पहुँचना ।

मानती हूँ
कि जीने का सलीका
तुमने सिखाया
पर बाबू
इतनी मज़बूत नहीं
कि झेल सकूँ
इतना मानसिक तनाव
इस कस्बे के लोग
तुम्हें बद मानते हैं
लेकिन तुम जानते हो
तुम्हारे बाहर
मेरी कोई दुनिया नहीं ।

बदलते रहेंगे नक्षत्र
बदलेगा मौसम
बदलेंगे लोग
बदलेगा परिवेश
पर मुझे भरोसा है
कि ख़िलाफ़ हवाओं के बीच भी
हम साथ रहेंगे
इसीलिए इस बदरंग मौसम में भी
नाचती हूँ मैं ।