भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"एक नदी यह भी / मनोज श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= मनोज श्रीवास्तव |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem> ''' ''')
 
पंक्ति 1: पंक्ति 1:
 
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKGlobal}}
 
{{KKRachna
 
{{KKRachna
पंक्ति 7: पंक्ति 6:
 
{{KKCatKavita}}
 
{{KKCatKavita}}
 
<poem>
 
<poem>
''' '''
+
'''एक नदी यह भी '''
 +
 
 +
जिन राजमार्गों, राजवीथियों  पर
 +
सभ्यताओं के फलने-फूलने पर
 +
सूर्य पूरे दिन उत्सव मनाता था
 +
चन्द्रमा अलमस्त
 +
चांदनी का सरगम बजाता था,
 +
 
 +
वहां लोग गुत्थम-गुत्थ  बह रहे हैं
 +
 
 +
तरल बहते लोगों से संडाध उठ रही है
 +
संस्कृतियों के कल्पतरुओं का कहीं अता-पता नहीं है,
 +
आखिर, जिन तरुओं की जड़ों में दीमक लग गए हों
 +
उनके बचने की उम्मीद कैसे की जा सकती है?
 +
 
 +
दु:ख है की उनके अवशेष
 +
नवपतन और नवविनाश के खाद भी न बन पाए
 +
उन विषैले, पुष्पहीन-फलहीन पौधों के
 +
जिन्हें छूना तो घातक है ही
 +
देखने-सूंघने भर से कांटे चुभ जाते हैं
 +
 
 +
लोग-बाग़ बहते रहने के उन्माद में
 +
भूल जाते हैं कि
 +
वे पर्वतीय सडकों से उतरकर
 +
सैकड़ों-हजारों गज नीचे
 +
सचमुच, मिथक बन चुकी नदियों के
 +
कंकाल में बहने लगे हैं

14:29, 21 जून 2010 का अवतरण

एक नदी यह भी

जिन राजमार्गों, राजवीथियों पर
सभ्यताओं के फलने-फूलने पर
सूर्य पूरे दिन उत्सव मनाता था
चन्द्रमा अलमस्त
चांदनी का सरगम बजाता था,

वहां लोग गुत्थम-गुत्थ बह रहे हैं

तरल बहते लोगों से संडाध उठ रही है
संस्कृतियों के कल्पतरुओं का कहीं अता-पता नहीं है,
आखिर, जिन तरुओं की जड़ों में दीमक लग गए हों
उनके बचने की उम्मीद कैसे की जा सकती है?

दु:ख है की उनके अवशेष
नवपतन और नवविनाश के खाद भी न बन पाए
उन विषैले, पुष्पहीन-फलहीन पौधों के
जिन्हें छूना तो घातक है ही
देखने-सूंघने भर से कांटे चुभ जाते हैं

लोग-बाग़ बहते रहने के उन्माद में
भूल जाते हैं कि
वे पर्वतीय सडकों से उतरकर
सैकड़ों-हजारों गज नीचे
सचमुच, मिथक बन चुकी नदियों के
कंकाल में बहने लगे हैं