भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कतबो खसय नोर मोनक फलकपर / धीरेन्द्र

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 03:15, 23 मई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धीरेन्द्र |संग्रह=करूणा भरल ई गीत...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कतबो खसय नोर मोनक फलकपर,
पलक धरि ने आबए आयास हम्मर।
चुपचाप पीबी विषक हम पियाली,
मरण-बोध करबाक अभ्यास हम्मर।
मुदा अछि विचित्रे रंगताल एतऽ,
चुप्पो रही जँ तँ हमरा सताबय।
मौनो हमर अछि अपराध भेलै,
अनेरे जेना त्रास हमरा देखाबए।
टपल आइ सीमा सहनशीलताकेर,
जेना व्रण ई पूरा टहकिसन रहल अछि।
हमर मोन-तहमे कहू मित्र साँचे,
जेना गर्म लावा लहकिसन रहल अछि।
मुदा ने अन्हारक डगरपर चलब हम,
आशा भरल अछि आकाश हम्मर।