भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कब गुल है हवा-ख़्वाह सबा अपने चमन का / 'ममनून' निज़ामुद्दीन

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता २ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:38, 1 जुलाई 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार='ममनून' निज़ामुद्दीन |संग्रह= }} {{KKCatG...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कब गुल है हवा-ख़्वाह सबा अपने चमन का
वा जुम्बिश-ए-दम से है रफ़ू ज़ख़्म-ए-कुहन का

बे-ताबी-ए-दिल तेरे शहीदों की कहाँ जाए
कुछ कम रग-ए-बिस्मिल से नहीं तार कफ़न का

देता है फिर आईने को किस वास्ते बोसा
वो आप जो दिल-दादा नहीं अपने दहन का

मानिंद-ए-हबाब आप किया इश्क़ ने ‘ममनूँ’
पाया न निशाँ जामे में अपने कहीं तन का