भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कविता / कृष्णा वर्मा

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:58, 14 जून 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कविता वह हथियार
बहे ना ख़ून जीत ले जंग
कविता वह उपहार
मिटा दे दिल से दिल के द्वंद्व
कविता वह विश्वास
जला दे अंधकार में दीप
कविता वह प्रयास
बिना सागर हो मोती सीप
कविता वह आधार
दरकने दे ना दिल का प्यार
कविता वह पतवार
डोलती नैया लग जाए पार
कविता वह उद्घोष
उड़ाए बड़े बड़ों के होश
कविता आशुतोष
भटकते दिल पाएं संतोष
कविता पहरेदार
चौकसी करती जो लगातार
कविता कहे उतार
जो तेरे जीवन का व्यवहार
कविता वह मशाल
दिखाए पल में राह सुजान
कविता ऐसा बाना
करे स्याह को झट सूफियाना
कहो न इसको फिक़राबंदी
कविता शब्दों का सम्मेलन।