भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क़सम इस आग और पानी की / सरवत हुसैन

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 23:38, 8 अक्टूबर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सरवत हुसैन }} {{KKCatGhazal}} <poem> क़सम इस आग औ...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क़सम इस आग और पानी की
मौत अच्छी है बस जवानी की

और भी हैं रिवायतें लेकिन
इक रिवायत है ख़ूँ-फ़िशानी की

जिसे अंजाम तुम समझती हो
इब्तिदा है किसी कहानी की

रंज की रेत है किनारों पर
मौज गुज़री थी शादमानी की

चूम लीं मेरी उँगलियाँ ‘सरवत’
उस ने इतनी तो मेहरबानी की