भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

काल-आज रौ सांच राखजै / अशोक जोशी 'क्रान्त'

Kavita Kosh से
आशिष पुरोहित (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:45, 27 जून 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अशोक जोशी 'क्रान्त' |अनुवादक= |संग्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काल-आज रौ सांच राखजै
वाणी खीरै आंच राखजै।

कागद नवौ लिखण सूं पैला
जूना कागद बांच राखजै।

अेक न सातूं भव री लागै
सखरी इणभव जांच राखजै।

बचियोड़ा टाणां है कितरा
हाथ थोडक़ौ खांच राखजै।

मिनख मांयलै माणस सारू
पारस जैड़ो कांच राखजै।

कोरै भाटै कद पीसीजै
सिल्ला लोडी टांच राखजै।