भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

कैसे शिव से गिरिजा विवाह / संजय चतुर्वेद

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 19:15, 18 अप्रैल 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मज़ाक-ए-हिन्द का सारा सलीका

गज़ब तैयार होता जा रहा है

सुख़न मुश्ताक़ है यह कौम

शाइर वज़ीफ़ाख़्वार होता जा रहा है ।