भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

क्या बताऊं कैसा ख़ुद को दर-ब-दर मैंने किया / वसीम बरेलवी

Kavita Kosh से
117.199.112.168 (चर्चा) द्वारा परिवर्तित 07:09, 18 जनवरी 2009 का अवतरण (नया पृष्ठ: क्या बताऊं कैसा ख़ुद को दर-ब-दर मैंने किया,<br> उम्र भर किस-किस के हिस...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या बताऊं कैसा ख़ुद को दर-ब-दर मैंने किया,
उम्र भर किस-किस के हिस्से का सफ़र मैंने किया ।

तू तो नफ़रत भी न कर पाएगा इतनी शिद्दत के साथ,
जिस बला का प्यार तुझसे बे-ख़बर मैंने किया ।

कैसे बच्चों को बताऊं रास्तों के पेचो-ख़म,
ज़िन्दगी भर तो किताबों का सफ़र मैंने किया ।

शोहरतों की नज़्र कर दी शेर की मासूमियत,
इस दीये की रोशनी को दर-ब-दर मैंने किया ।

चंद जज़्बाती से रिश्तों के बचाने को ‘वसीम‘,
कैसा-कैसा जब्र अपने आप पर मैंने किया ।

शिद्दत: अति,
पेचो-ख़म: घुमाव- फिराव,
नज़्र: भेंट, उपहार,
जब्र: ज़ोर-ज़बर्दस्ती ।