भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"ख़ुद को क्यूँ जिस्म का ज़िन्दानी करें / अब्दुल अहद 'साज़'" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अब्दुल अहद 'साज़' |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

17:15, 24 मार्च 2020 के समय का अवतरण

ख़ुद को क्यूँ जिस्म का ज़िन्दानी करें
फ़िक्र को तख़्त-ए-सुलैमानी करें

देर तक बैठ के सोचें ख़ुद को
आज फिर घर में बयाबानी करें

अपने कमरे में सजाएँ आफ़ाक़
जल्सा-ए-बे-सर-ओ-सामानी करें

उम्र भर शेर कहें ख़ूँ थूकें
मुन्तख़ब रास्ता नुक़सानी करें

ख़ुद के सर मोल लें इज़हार का क़र्ज़
दूसरों के लिए आसानी करें

शेर के लब पे ख़मोशी लिक्खें
हर्फ़-ए-ना-गुफ़्ता को ला-फ़ानी करें

कीमिया-कारी है फ़न अपना 'साज़'
आग को बैठे हुए पानी करें