भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गोपाल सिंह नेपाली / एस. मनोज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नेपाली का जन्म दिवस यह
साहित्य का त्योहार है
नेपाली का जीवन सारा
जन-जन को उपहार है

बन कविता तुम प्राण फूंकते
रहे सदा प्रहरी बनकर
रेल बहादुर के घर खुशियां
आई थी खुद से चलकर

प्रकृति प्रेम की कविता तेरी
जीवन के संग्राम की
हमें जगाती नित नित गाती
मानव के कल्याण की

रोटियों के प्रश्न उठाती
समता राह दिखाती है
झोपड़ियों में पड़े बेबसों
का भी भाग्य सजाती है

कानन के पीपल के जैसा
बनेगा हो तुम अटल अचल
चंपा अरण्य की खुशबू महके
सुरभित हो पूरा अंचल

आओ सीखे कवित्त छंद और
नैतिकता का पाठ भी
साहित्य चेतना मनुज चेतना
दोनों हो एक साथ ही।