भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घर / लेस मरे

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:05, 18 अप्रैल 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=लेस मरे |संग्रह= }} {{KKCatKavita‎}} <Poem> घर है पहली और अन्तिम …)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर है पहली
और अन्तिम कविता।
बीच की हर कविता
में होती हैं धारियाँ
माँ के घर की!

घर सबसे कमज़ोर दुश्मन
जैसे कि पिघलता हुआ लोहा,
पर युद्ध घर के खिलाफ़
है सबसे लम्बी पगयात्रा!

घर के पड़ोसी नहीं होते
पेड़ या साइनबोर्ड से भी
कमज़ोर होते हैं वे!
अपने वही होते हैं-
लौट आते हैं जो!

और फिर उसके तुरन्त बाद
अपने उदास, रज़ाई-पर फैलाए
उड़ता है एक चकाचक-सा हवाईजहाज़। रुमानी चीज़ों के साथ
घर लौटना चाहिए भावों को
अन्तिम निर्णय के तुरन्त बाद!

हो सकता है प्रेम
ताज़ा - टटका और तरल, इतना कि

रंध्रों से करके प्रवेश मलुआ दे वह
जो भी घर में है मुस्तैदी से सजा-धजा!


अंग्रेज़ी से अनुवाद : अनामिका