भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चश्म-ए-हसीं में है न रुख़-ए-फ़ित्ना-गर में है / बेहज़ाद लखनवी का स्रोत देखें

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आपको इस पृष्ठ को सम्पादित करने की अनुमति नहीं हैं, निम्नलिखित कारण की वजह से:

जिस क्रिया का अनुरोध आपने किया है उसे संचालित करने की अनुमति आपको नहीं है।


आप इस पृष्ठ का स्रोत देख सकते हैं और उसकी नकल उतार सकते हैं:

इस पृष्ठ पर प्रयुक्त साँचे:

चश्म-ए-हसीं में है न रुख़-ए-फ़ित्ना-गर में है / बेहज़ाद लखनवी को लौटें।