भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चिंगारी / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
Dhirendra Asthana (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:51, 5 अप्रैल 2015 का अवतरण ('{{KKRachna |रचनाकार=श्रीनाथ सिंह |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBaalKavita...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घास फूस का ढेर पड़ा था,
उस पर गिरी एक चिनगारी।
धुआँ हुआ फिर हुआ उजाला,
चमक उठीं फिर गलियाँ सारी।
आग लगी है, आग लगी है,
शोर किया लड़कों ने भारी।
मेला सा लग गया वहाँ पर,
जमा हुये इतने नर नारी।
हँस कर बोली वह चिनगारी,
ओहो ! मैं हूँ कितनी न्यारी।
पहले कौन समझ सकता था,
मुझमें है यह ताकत भारी।
घास फूस सी है यह दुनिया,
नर की इक्छा है चिनगारी।
चाहे तो चमका सकता है,
उसके बल पर वसुधा सारी।