भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"चूहे की चाय / प्रभुदयाल श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रभुदयाल श्रीवास्तव |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

19:20, 2 अगस्त 2020 के समय का अवतरण

कड़क ठण्ड है, चूहा बोला,
मुझे चाय की चाह।
अगर बनी अच्छी, कर लूँगा,
चट मंगनी पट ब्याह।
बोली चुहिया अरे अनाड़ी,
मत खा मेरे कान।
यहाँ चाय की मेरे घर में,
कोई नहीं दुकान।