भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जब अपनी तुलना करता हूँ मैं कवि तुलसीदास से / गुलाब खंडेलवाल

Kavita Kosh से
Vibhajhalani (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:59, 20 अप्रैल 2017 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गुलाब खंडेलवाल |संग्रह=चंदन की कल...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब अपनी तुलना करता हूँ मैं कवि तुलसीदास से
लगता है कुछ दूर नहीं हूँ उनके काव्य-विकास से
. . .
किन्तु एक अंतर छोटा-सा जब आता है ध्यान में
तुलसी और स्वयं में पाता हूँ कितना व्यवधान मैं

एक बार ही उपालम्भमय सुन पत्नी की झिड़कियाँ
कवि ने सब कुछ छोड़, गेरुआ और कमंडल धर लिया
और यहाँ प्रतिनिमिष बिँधा भी प्रिया-व्यंग्य-विष-बाण में
अस्थि-चरम से लिपटा हूँ मैं, जूँ न रेंगती कान में