भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"ज़िंदगी क्या है? / कृष्णा वर्मा" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= कृष्णा वर्मा |संग्रह= }} Category:ताँ...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 6: पंक्ति 6:
 
[[Category:ताँका]]
 
[[Category:ताँका]]
 
<poem>
 
<poem>
 
+
1
 
+
थोड़ी रंगीन
 
+
है थोड़ी- सी रुमानी
 
+
ज़िंदगी क्या है?
 
+
अनूठा- सा गणित
 +
है प्यार की कहानी।
 +
2
 +
ऊँची-नीची -सी
 +
हैं पथरीली राहें
 +
कैसे बताएँ
 +
बहते दरिया की
 +
है ये कोई रवानी।
 +
3
 +
कर्मों से बँधी
 +
मूल्यों में ढली हुई
 +
वंश- निशानी
 +
भोली कुछ नादाँ-सी
 +
है थोड़ी -सी सयानी।
 +
4
 +
बड़ी कठिन
 +
ज़िंदगी की किताब
 +
पढ़ें तो कैसे
 +
पल-पल बदलती
 +
ये अपने मिज़ाज।
 +
5
 +
बची न वफ़ा
 +
रिश्तों की बेदर्दी से
 +
रोई ज़िंदगी
 +
बाकी अब जीने का
 +
दस्तूर है निभाना।
  
 
</poem>
 
</poem>

05:10, 29 जुलाई 2019 के समय का अवतरण

1
थोड़ी रंगीन
है थोड़ी- सी रुमानी
ज़िंदगी क्या है?
अनूठा- सा गणित
है प्यार की कहानी।
2
ऊँची-नीची -सी
हैं पथरीली राहें
कैसे बताएँ
बहते दरिया की
है ये कोई रवानी।
3
कर्मों से बँधी
मूल्यों में ढली हुई
वंश- निशानी
भोली कुछ नादाँ-सी
है थोड़ी -सी सयानी।
4
बड़ी कठिन
ज़िंदगी की किताब
पढ़ें तो कैसे
पल-पल बदलती
ये अपने मिज़ाज।
5
बची न वफ़ा
रिश्तों की बेदर्दी से
रोई ज़िंदगी
बाकी अब जीने का
दस्तूर है निभाना।