भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज़िन्दगी का पेड़ गिर पड़ा / एलिस वॉकर / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:24, 25 जून 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=एलिस वॉकर |अनुवादक=उज्ज्वल भट्टा...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज़िन्दगी का पेड़
एक छोटे से घरौन्दे पर गिर पड़ा ।

मैंने सोचा —
कितना बड़ा है वह !
लेकिन ऐसा नहीं है ।

कहीं दूर मुझे अब भी पहाड़ियाँ दिखती हैं ।
सामने दूर तक पानी का बहाव देखना बेमिसाल है ।
मेरी नाव शानदार है और मैं कप्तान हूँ उसकी;
पाल फहराना जो मैंने सीखा नहीं।

लेकिन मैं भटकती हूँ
ज़िन्दगी के पेड़ के बिना,
जो गिर पड़ी है
बिना किसी सलीके या रहम के
इस छोटे से घर पर ।

हटे तानाशाह की ख़ातिर
हमेशा के लिए ।

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य