भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"तुम हमारे द्वार पर / अंकित काव्यांश" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अंकित काव्यांश |अनुवादक= |संग्रह= }...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 13: पंक्ति 13:
  
 
कहीं ऐसा तो  
 
कहीं ऐसा तो  
नही पहले अँधेरा भेजते हो,
+
नहीं पहले अँधेरा भेजते हो,
 
फिर सितारों की दलाली कर उजाला बेचते हो।
 
फिर सितारों की दलाली कर उजाला बेचते हो।
  
कैदखाने में  
+
क़ैद-ख़ाने में  
 
पड़ा सूरज रिहाई माँगता हो,
 
पड़ा सूरज रिहाई माँगता हो,
 
या सकल आकाश आँगन में तुम्हारे नाचता हो।
 
या सकल आकाश आँगन में तुम्हारे नाचता हो।

23:25, 2 अगस्त 2020 के समय का अवतरण

तुम हमारे द्वार पर दीवा जलाना चाहते हो,
बात अच्छी है, मगर
उस दीप की बाती हमारे रक्त से ही क्यों सनी है!

कहीं ऐसा तो
नहीं पहले अँधेरा भेजते हो,
फिर सितारों की दलाली कर उजाला बेचते हो।

क़ैद-ख़ाने में
पड़ा सूरज रिहाई माँगता हो,
या सकल आकाश आँगन में तुम्हारे नाचता हो।

कहीं ऐसा तो नही तुम स्वर्ग पाना चाहते हो,
बात अच्छी है, मगर
उस स्वर्ग की सीढ़ी हमारी अस्थियों से क्यों बनी है!

क्या पता हम
रात भर उत्सव मनाने में जगें फिर,
ठीक अगली भोर अपनी नींद पाने में जगें फिर।

छाँव का व्यापार
होने लग गया तो क्या करेंगे,
और कब तक हम उनींदे नयन में आँसू भरेंगे।

तुम मुनादी पीटकर हमको जगाना चाहते हो,
बात अच्छी है, मगर
अब उस नगाड़े पर हमारी खाल मढ़कर क्यों तनी है!